बाहर वही निकलते हैं!

जिनके अंदर चिराग़ जलते हैं,
घर से बाहर वही निकलते हैं।

सूर्यभानु गुप्त

Leave a Reply