समन्दर काहे शोर मचायेगा!

सूख गई जब इन आँखों में प्यार की नीली झील “क़तील”,
तेरे दर्द का ज़र्द समन्दर काहे शोर मचायेगा|

क़तील शिफ़ाई

Leave a Reply