काग़ज़ थे अश्कों से भीगे हुए!

हम जो काग़ज़ थे अश्कों से भीगे हुए,
क्यों चिराग़ों की लौ तक हवा ले गई|

बशीर बद्र

Leave a Reply