मुठ्ठी में सूखे हुए फूल हैं!

मेरी मुठ्ठी में सूखे हुए फूल हैं,
ख़ुशबुओं को उड़ाकर हवा ले गई|

बशीर बद्र

Leave a Reply