अपने हालात बरतता हूँ!

खुलते भी भला कैसे आँसू मेरे औरों पर,
हँस-हँस के जो मैं अपने हालात बरतता हूँ ।

राजेश रेड्डी

Leave a Reply