जो ज़ख्म मेरे दिल को!

मिलते रहे दुनिया से जो ज़ख्म मेरे दिल को,
उनको भी समझकर मैं सौग़ात, बरतता हूँ ।

राजेश रेड्डी

2 Comments

Leave a Reply