बनकर सुक़रात, बरतता हूँ!

इक ज़हर के दरिया को दिन-रात बरतता हूँ ।
हर साँस को मैं, बनकर सुक़रात, बरतता हूँ ।

राजेश रेड्डी

2 Comments

Leave a Reply