महक जाते हैं चाँद-सितारे भी!

उस रात महक जाते हैं चाँद-सितारे भी,
मैं नींद में ख़्वाबों को जिस रात बरतता हूँ ।

राजेश रेड्डी

Leave a Reply