यादों के लम्हात बरतता हूँ !

कंजूस कोई जैसे गिनता रहे सिक्कों को,
ऐसे ही मैं यादों के लम्हात बरतता हूँ ।

राजेश रेड्डी

Leave a Reply