सदमात बरतता हूँ !

कुछ और बरतना तो आता नहीं शे’रों में,
सदमात बरतता था, सदमात बरतता हूँ ।

राजेश रेड्डी

Leave a Reply