पसीने बांटता फिरता है!

पसीने बांटता फिरता है हर तरफ़ सूरज,
कभी जो हाथ लगा तो निचोड़ दूंगा उसे|

राहत इन्दौरी

Leave a Reply