देने हैं नज़राने बहुत!

ये जिगर, ये दिल, ये नींदें, ये क़रार,
इश्क़ में देने हैं नज़राने बहुत|

महेन्द्र सिंह बेदी ‘सहर’

Leave a Reply