बनते हैं अंजाने बहुत!

क्या तग़ाफ़ुल का अजब अन्दाज़ है,
जानकर बनते हैं अंजाने बहुत|

महेन्द्र सिंह बेदी ‘सहर’

2 Comments

Leave a Reply