मज़ा चखा के ही माना हूँ!

मज़ा चखा के ही माना हूँ मैं भी दुनिया को,
समझ रही थी कि ऐसे ही छोड़ दूंगा उसे|


राहत इन्दौरी

Leave a Reply