मुझको समझाने बहुत!

आ रहे हैं मुझको समझाने बहुत,
अक़्ल वाले कम हैं, दीवाने बहुत|

महेन्द्र सिंह बेदी ‘सहर’

Leave a Reply