ये दयार-ए-इश्क़ है!

ये दयार-ए-इश्क़ है इसमें सहर,
बस्तियाँ कम कम हैं वीराने बहुत|

महेन्द्र सिंह बेदी ‘सहर’

Leave a Reply