हैं वरना मयखाने बहुत!

साक़िया हम को मुरव्वत चाहिए,
शहर में हैं वरना मयखाने बहुत|

महेन्द्र सिंह बेदी ‘सहर’

Leave a Reply