मेरा दिल ही दुखाने आई!

तेरी मानिंद तेरी याद भी ज़ालिम निकली,
जब भी आई है मेरा दिल ही दुखाने आई|

कैफ़ भोपाली

Leave a Reply