मेरी तनहाई चुराने आई!

दर ओ दीवार पे शकलें सी बनाने आई,
फिर ये बारिश मेरी तनहाई चुराने आई|

‘कैफ़’ भोपाली

Leave a Reply