मौत बचाने आई!

ज़िंदगी बाप की मानिंद सजा देती है,
रहम-दिल माँ की तरह मौत बचाने आई|

‘कैफ़’ भोपाली

Leave a Reply