अपनी ही ख़ुद परछाइयाँ हैं!

है ऐसी तेज़ रफ़्तारी का आलम,
कि लोग अपनी ही ख़ुद परछाइयाँ हैं|

सूर्यभानु गुप्त

2 Comments

Leave a Reply