गर्दनों पर टाइयां हैं!

दिलों की बात ओंठों तक न आए,
कसी यूँ गर्दनों पर टाइयां हैं|

सूर्यभानु गुप्त

Leave a Reply