मुलाज़िम झूठ की-

हवा बिजली के पंखे बांटते हैं,
मुलाज़िम झूठ की सच्चाइयां हैं|

सूर्यभानु गुप्त

Leave a Reply