शहर की रानाइयां हैं!

गगन-छूते मकां भी, झोपड़े भी,
अजब इस शहर की रानाइयां हैं|

सूर्यभानु गुप्त

Leave a Reply