कथा हर ज़िंदगी की-

कथा हर ज़िंदगी की द्रोपदी-सी,
बड़ी इज़्ज़त-भरी रुस्वाइयां हैं|

सूर्यभानु गुप्त

Leave a Reply