छोड़ दी ऊंचाइयां हैं!

यहाँ रद्दी में बिक जाते हैं शाइर,
गगन ने छोड़ दी ऊंचाइयां हैं|

सूर्यभानु गुप्त

Leave a Reply