पछुआ का जादू!

जिधर देखो उधर पछुआ का जादू,
सलीबों पर चढ़ीं पुरवाइयां हैं|

सूर्यभानु गुप्त

2 Comments

Leave a Reply