अजनबी के घर में रहा!

तमाम उम्र मैं इक अजनबी के घर में रहा ।
सफ़र न करते हुए भी किसी सफ़र में रहा ।

गोपालदास “नीरज”

Leave a Reply