इन्सान कहाँ तक पहुंचे!

चांद को छूके चले आए हैं विज्ञान के पंख,
देखना ये है कि इन्सान कहाँ तक पहुंचे।

गोपालदास “नीरज”

Leave a Reply