जो अगर-मगर में रहा!

हज़ारों रत्न थे उस जौहरी की झोली में,
उसे न कुछ भी मिला जो अगर-मगर में रहा ।

गोपालदास “नीरज”

Leave a Reply