मीरा की चश्मे-तर में रहा!

तू ढूँढ़ता था जिसे जा के बृज के गोकुल में,
वो श्याम तो किसी मीरा की चश्मे-तर में रहा ।

गोपालदास “नीरज”

Leave a Reply