रोटी की ही ख़बर में रहा!

वो और ही थे जिन्हें थी ख़बर सितारों की,
मेरा ये देश तो रोटी की ही ख़बर में रहा ।

गोपालदास “नीरज”

Leave a Reply