कोई हमदम होता है!

ग़ैरों को कब फ़ुरसत है दुख देने की,
जब होता है कोई हमदम होता है|

जावेद अख़्तर

Leave a Reply