थीं सजी हसरतें दूकानों पर!

थीं सजी हसरतें दूकानों पर,
ज़िन्दगी के अजीब मेले थे|

जावेद अख़्तर

Leave a Reply