दिल की गली में खेले थे!

हम तो बचपन में भी अकेले थे,
सिर्फ़ दिल की गली में खेले थे|

जावेद अख़्तर

2 Comments

Leave a Reply