हमने फ़ाक़े झेले थे!

ज़हनो-दिल आज भूखे मरते हैं,
उन दिनों हमने फ़ाक़े झेले थे|

जावेद अख़्तर

Leave a Reply