तुम तरस नहीं खाते–

लोग टूट जाते हैं, एक घर बनाने में,
तुम तरस नहीं खाते, बस्तियाँ जलाने में|

बशीर बद्र

2 Comments

  1. vermavkv says:

    वाह , बहुत सुन्दर लिखा है |

    1. shri.krishna.sharma says:

      जी, हार्दिक धन्यवाद।

Leave a Reply