आख़िर वो नाम किसका था!

तुम्हारे ख़त में नया इक सलाम किसका था,
न था रक़ीब तो आख़िर वो नाम किसका था|

दाग़ देहलवी

2 Comments

Leave a Reply