ख़याल दिल को मेरे-

गुज़र गया वो ज़माना कहूँ तो किस से कहूँ,
ख़याल दिल को मेरे सुब्ह ओ शाम किसका था|

दाग़ देहलवी

Leave a Reply