वो पयाम किसका था !

हमारे ख़त के तो पुर्ज़े किए पढ़ा भी नहीं,
सुना जो तू ने ब-दिल वो पयाम किसका था|

दाग़ देहलवी

Leave a Reply