जरा सा क़तरा!

जरा सा क़तरा कहीं आज अगर उभरता है,
समंदरो ही के लहजे में बात करता है।

वसीम बरेलवी

2 Comments

Leave a Reply