शराफ़तों की यहाँ कोई –

शराफ़तों की यहाँ कोई अहमियत ही नहीं,
किसी का कुछ न बिगाड़ो तो कौन डरता है।

वसीम बरेलवी

Leave a Reply