आकाश के तारे न देख!

आज सड़कों पर लिखे हैं सैकड़ों नारे न देख,
पर अन्धेरा देख तू आकाश के तारे न देख ।

दुष्यंत कुमार

Leave a Reply