ख़ौफ़ के मारे न देख!

अब यकीनन ठोस है धरती हक़ीक़त की तरह,
यह हक़ीक़त देख लेकिन ख़ौफ़ के मारे न देख ।

दुष्यंत कुमार

Leave a Reply