दीवारों में दीवारें न देख!

ये धुन्धलका है नज़र का तू महज़ मायूस है,
रोजनों को देख दीवारों में दीवारें न देख ।

दुष्यंत कुमार

Leave a Reply