पतवारें न देख!

एक दरिया है यहाँ पर दूर तक फैला हुआ,
आज अपने बाज़ुओं को देख पतवारें न देख ।

दुष्यंत कुमार

Leave a Reply