घर में कहीं ख़ुदा रखना!

मस्जिदें हैं नमाज़ियों के लिये,
अपने घर में कहीं ख़ुदा रखना|

निदा फ़ाज़ली

Leave a Reply