अब घर अच्छा लगता है!

नयी-नयी आँखें हों तो हर मंज़र अच्छा लगता है,
कुछ दिन शहर में घूमे लेकिन, अब घर अच्छा लगता है।

निदा फ़ाज़ली

Leave a Reply