कोई नया ख्वाब लगे!

कभी बादल, कभी कश्ती, कभी गर्दाब लगे,
वो बदन जब भी सजे कोई नया ख्वाब लगे|

निदा फ़ाज़ली

Leave a Reply