खिड़की निकले कहीं मेहराब लगे!

अभी बे-साया है दीवार कहीं लोच न ख़म,
कोई खिड़की कहीं निकले कहीं मेहराब लगे|

निदा फ़ाज़ली

Leave a Reply